ALL देश- विदेश राज्य व शहर शिक्षा व्यापार खेल धर्म मनोरंजन स्वास्थ्य फिल्मिदुनियाँ
जूझ रहा मेहलुआ चौराहा
November 26, 2019 • जगदीश सिकरवार • राज्य व शहर

मूलभूत सुविधाओं से जूझ रहा मेहलुआ चौराहा

जनपद पंचायत कुरवाई की बड़ी पंचायत में शामिल मेहलुआ के ग्राम मेहलुआ चौराहे पर मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। जबकि यह चोराहा विदिशा-अशोकनगर एवं कुरवाई - सिरोंज को जोड़ने वाला महत्त्वपूर्ण चौराहा है। इस चौराहे से चंदेरी अशोकनगर मुंगावली बीना खुरई खिमलासा मालथौन विदिशा भोपाल गुना सिरोंज लटेरी आरोन तरफ से आने जाने वाले यात्रियों का महत्वपूर्ण चौराहा है। इस चौराहे से प्रतिदिन 100 से ज्यादा बसों एवं निजी वाहनों का आना जाना होता है। जिनके यात्रियों को मूलभूत सुविधाओं के लिए यहां-वहां भटकना पड़ता है। पूरे चौराहे पर एक भी सार्वजनिक सुलभ शौचालय एवं पीने के योग्य पानी का इंतजाम से लेकर यात्रियों के बैठने के लिए प्रतीक्षालय तक नहीं है। मेहलुआ चौराहे के ग्रामीणजनों ने शासन से चौराहे पर आधुनिक सुविधाओं के साथ यात्री प्रतीक्षालय बनवाने की मांग की है। जिसमें सभी प्रकार की मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध हों। मांग करने वालों में सरपंच प्रतिनिधि देवेन्द्र रघुवंशी, पूर्व जिला पंचायत सदस्य टीकाराम तिवारी, देवेंद्र सिंह चौहान, दीपक रघुवंशी, कमलेश साहू, सुरेंद्र रघुवंशी, दीपक दुबे, डब्बू तिवारी, रोहित शर्मा, मधु शर्मा, अक्षय सिंह चौहान, ब्रजेश सप्रे सहित अनेकों ग्रामीणों ने इस मांग को पूर्ण किया जाना अति महत्वपूर्ण बताया है। मेहलुआ चौराहे के निवासी महेंद्र नामदेव ने बताया कि मेहलुआ चौराहा पर मूलभूत सुविधाओं की स्थिति किसी से छुपी नहीं है। क्षेत्र के सभी जनप्रतिनिधि एवं अधिकारियों को सुविधाओं के आभाव के बारे में पता है। जबकि यहां पर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया, वर्तमान के कई मंत्री, विधायक, सांसद सहित कई वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी निरंतर गजरते हैं। कुछ समय के लिए रुक कर लोगों से मिलते जुलते भी हैं। परंतु यहां की मूलभूत सुविधा की स्थिति में कोई सुधार नहीं हो पा रहा है। ग्राम पंचायत मेहलुआ के सरपंच चंदन सिंह रघुवंशी का कहना है कि पंचायत के पास इतना फंड नहीं रहता कि पंचायत अपने स्तर पर आधुनिक सुविधाओं संयुक्त प्रतीक्षालय बना सके। जिसके लिए शासन के विभिन्न स्तरों पर एवं जनप्रतिनिधियों से लगातार मांग की गई है। अभी तक इस समस्या का निराकरण नहीं हो सका है।