ALL देश- विदेश राज्य व शहर शिक्षा व्यापार खेल धर्म मनोरंजन स्वास्थ्य फिल्मिदुनियाँ
छुड़ाएं नशे की लत
November 26, 2019 • जगदीश सिकरवार • राज्य व शहर

मुफ्त की च्यूइंगम चबा कर छुड़ाएं नशे की लत

पूरे समाज को नशा मुक्त करने जिला तंबाकू नशा-मुक्ति दल जागरूकता कार्यशालाओं के साथसाथ अब शहरी एवं ग्रामीण अंचल के कस्बों और बस्तियों में लोगों के बीच पहुंच कर भी शिविर आयोजित किया जा रहा है। जहाँ, तंबाकू के आदी लोगों की निःशुल्क जांच कर और दवा वितरण के साथ उन्हें जिला अस्पताल स्थित तंबाकू नशा-मुक्ति केंद्र आकर नशा-मुक्ति कोर्स पूरा करने के लिये प्रेरित किया जाता है, ताकि वे पूरी तरह से नशा मुक्त हों और दुबारा इसकी चपेट में न आएं। इस कड़ी में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एसपी वारे के निर्देशानुसार जिला कार्यक्रम प्रबंधक संदीप ताम्रकार के मार्गदर्शन में महासमुंद शहर स्थित वार्ड क्र.04 देवार पारा में शिविर लगाया गया। शासकीय सामाजिक कार्यकर्ता व सलाहकार असीम श्रीवास्तव ने कहा कि नशे से छुटकारा दिलाने के लिए जिला तंबाकू नशा-मुक्ति केंद्र शुरू किया गया हैयहां, हम काउंसलिंग के बाद चिकित्सकीय जांच व परीक्षण कर मुफ्त च्यूइंगम (मेडिकेटेड गम) खिलाकर नशे से छुटकारा दिलाते हैं। साथ ही साथ निःशुल्क पैचेस व दवाओं के जरिये भी लोगों को धूम्रपान की लत से बाहर निकाल रहे हैं। विगत 06 महीनों के भीतर यहां 400 से अधिक महिला-पुरुषों ने नशा छोड़ने के लिए पंजीयन कराया। इनकी काउंसलिंग और फॉलोअप के बाद कई लोगों को इस बुरी आदत से छुटकारा दिलाया जा चुका है। मनोवैज्ञानिक सलाहकार श्रीमती मेघा ताम्रकार ने शिविर में मरीजों का ओरल टेस्ट किया और तंबाकू नशे के नुकसान बताएं। च्यूइंगम से बड़े-बड़ों ने भी छोड़ा है नशा गैर संचारी रोग विभाग की सलाहकार सुश्री अदीबा बट्ट ने बताया कि नशा छोडने वालों में कई ऐसे बड़े नाम भी शामिल हैं, जो बरसों से तंबाकू की गिरफ्त में थे। नाम गोपनीय रखने की शर्त पर वे कहते हैं कि च्यूइंगम और परामर्श उनके लिए वरदान साबित हुआ। मनोवैज्ञानिक बदलाव लाने लेते हैं फॉलो-अप जिला कार्यक्रम प्रबंधक संदीप ताम्रकार के मुताबिक केंद्र में एक वरिष्ठ चिकित्सक, प्रशिक्षित मनोवैज्ञानिक सलाहकार और सामाजिक कार्यकर्ता व सलाहकार की ड्यूटी लगाई गई है, जो, पीड़ति व्यक्तियों को मनोवैज्ञानिक तरीके से तैयार कर उनके मुंह और फेफड़ों की जांच करते हैं। सप्ताह-भर तक उनके संपर्क में रहकर, दूसरे हफ्ते से निशुल्क च्यूइंगम व पैचेस देकर नशा छुड़वाने का प्रयास करते हैं।

bhaskar