ALL देश- विदेश राज्य व शहर शिक्षा व्यापार खेल धर्म मनोरंजन स्वास्थ्य फिल्मिदुनियाँ
चैंपियनशिप में भारत से पदक की उम्मीद कम
November 29, 2019 • जगदीश सिकरवार • खेल

स्टार नीरज और हिमा के बिना विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में भारत से पदक की उम्मीद कम

भारत विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में अपने दो सबसे बड़े स्टार खिलाड़ियों चोटिल नीरज चोपड़ा और हिमा दास के बिना उतरेगा और ऐसे में पदक की उम्मीद तो दूर किसी खिलाड़ी का फाइनल में जगह बनाना भी बड़ी उपलब्धि होगी। विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप यहां शुक्रवार से शुरू होगी। भाला फेंक के दिग्गज खिलाड़ी नीरज 27 सितंबर से छह अक्टूबर तक होने वाली इस प्रतियोगिता में हिस्सा नहीं ले रहे हैं क्योंकि मई में कोहनी के आपरेशन के बाद वह अभी हल्की ट्रेनिंग कर रहे हैं। एक अन्य दावेदार हिमा ने यूरोप में लगभग चार महीने ट्रेनिंग की और इस दौरान कुछ छोटे स्तर की रेस भी जीती लेकिन शुरुआती टीम में जगह बनाने के बाद वह कमर की चोट के कारण प्रतियोगिता से हट गईं। हिमा के चोट के प्रबंधन के लिए भारतीय एथलेटिक्स महासंघ को काफी आलोचना का सामना भी करना पड़ा था। विश्व चैंपियनशिप अगर फिट होते लेकिन हिमा पिछले मीटर में 50.79 अपने निजी पदक की उम्मीद नहीं थी। यह भविष्यवाणी करना मुश्किल है कि भारतीय खिलाड़यों में कौन फाइनल में जगह बना पाएगा। एएफआई को हालांकि तीन चार गुणा 400 मीटर रिले टीमों, विशेषकर मिश्रित चार गुणा 400 मीटर रिले टीम से उम्मीद है। मिश्रित चार गुणा 400 मीटर रिले स्पर्धा को पहली बार विश्व चैंपियनशिप में जगह मिली है। पदक की उम्मीद करना हालांकि बेमानी होगा और अंजू बाबी जार्ज का 2003 विश्व चैंपियनशिप में लंबी कूद में जीता कांस्य पदक एकमात्र सफलता बना हुआ है। लंदन में 2017 में पिछली प्रतियोगिता में सिर्फ एक भारतीय फाइनल (पुरुष भाला फेंक में देविंदर सिंह कांग) में जगह बनाने में सफल रहा था जबकि पैदल चाल के खिलाड़ियों और मैराथन धावकों ने निराश किया था। भारत की 27 सदस्यीय टीम में से 13 खिलाड़ियों को रिले स्पर्धाओं के लिए चुना गया है। धारून अय्यासामी हालांकि व्यक्तिगत 400 मीटर बाधा दौड़ में भी चुनौती पेश करेंगे। विश्व चैंपियनशिप का क्वालीफाइंग स्तर हासिल करने के बावजूद राष्ट्रीय रिकार्ड धारक मोहम्मद अनसको व्यक्तिगत 400 मीटर स्पर्धा में नहीं उतारा जाएगा जिससे कि पुरुष चार गुणा 400 मीटर रिले टीम के फाइनल में जगह बनाने की संभावनाओं में इजाफा किया जा सके। सभी रिले स्पर्धाओं में शीर्ष आठ में रहने वाली टीमें 2020 टोक्यो ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करेंगी और भारत की नजरें संभवतः इसी पर टिकी होंगी।महिला चार गुणा 400 मीटर और मिश्रित चार गुणा 400 मीटर रिले से हिमा के हटने के बावजूद उप मुख्य राष्ट्रीय कोच राधाकृष्णन नायर का मानना है कि देश मिश्रित चार गुणा 400 मीटर रिले फाइनल में जगह बना सकता है। नायर ने कहा, 'अधिक अंतर पैदा नहीं होगा (हिमा के हटने से)। हमें सकारात्मक रहना होगा और मुझे अब भी लगता है कि हम मिश्रित चार गुणा 400 मीटर रिले के फाइनल में जगह बना सकते हैं।' 

bbc