ALL देश- विदेश राज्य व शहर शिक्षा व्यापार खेल धर्म मनोरंजन स्वास्थ्य फिल्मिदुनियाँ
भारत की ऊंची छलांग
November 25, 2019 • जगदीश सिकरवार • देश- विदेश

वैश्विक आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में भारत की ऊंची छलांग

नई दिल्ली। अर्थव्यवस्था को लेकर चारों तरफ से आ रही नकारात्मक खबरों के बीच देश और मोदी सरकार के लिए एकराहत की खबर आई है। व्यापार करने की सुगमता (ईज ऑफ डूइंग बिजनस) रैंकिंग में बेहतर प्रदर्शन करने के बाद अब वैश्विक आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में लंबी छलांग लगाते हुए भारत दुनिया के 162 देशों में 79वें क्रम पर पहुंच गया है। सूचकांक में पिछले वर्ष इसे 96वां स्थान प्राप्त हुआ था। कैनेडियन थिंकटैंक फ्रेजर इंस्टिट्यूट और भारतीय थिंक टैंक सेंटर फॉर सिविल सोसायटी द्वारा शुक्रवार को संयुक्त रूप से वैश्विक आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक 2019' जारी किया गया। यह सूचकांक दुनियाभर के देशों में बयानमा सरकार के आकार, कानून व्यवस्था व संपत्ति का अधिकार, मुद्रा की सुगमता, अंतरराष्ट्रीय व्यापार की आजादी और नियमन आदि जैसे 136 पांच क्षेत्रों के बारे में जुटाए गए आंकड़ों क पांच क्षेत्रों के बारे में जुटाए गए आंकड़ों के आधार पर जारी किया जाता है। 

पर हांगकांग सूचकांक में पहले पायदान

वैश्विक आर्थिक सूचकांक में हॉन्गकॉन्ग पहले, सिंगापुर दूसरे, न्यूजीलैंड तीसरे, स्विट्जरलैंड चौथे और अमेरिका पांचवें पायदान पर है, जबकि वेनेजुएला (162वें), लीबिया (161वें), सुडान (160वें), अल्जीरिया (159वें) और अंगोला (158वें) स्थान पर हैं। अन्य विकसित देश भी शीर्ष पर अन्य विकसित देश भी शीर्ष पर आर्थिक स्वतंत्रता सूचकांक में जापान, जर्मनी, इटली, फ्रांस, मैक्सिको, रूस और ब्राजील जैसी महत्वपूर्ण अर्थव्यवस्थाओं को क्रमश: 17, 20, 46, 50,76, 85 और 120 वां स्थान प्राप्त हुआ है। वैश्विक सूचकांक में भारत ने जहां 17 स्थानों की छलांग लगाई है, वहीं इसके सभी पड़ोसी देशों की रैंकिंग में गिरावट आई है। सचकांक में भूटान को 87. श्रीलंका को 104. नेपाल को 110 चीन को 113, बांग्लादेश को 123, पाकिस्तान को 136 वम्यांमार को 148वां स्थान प्रदान किया गया हा है। पिछले वर्ष इन देशों को क्रमशः 73, 106, 102, 108, 120, 132 व 151 वां स्थान प्राप्त हुआ था।

मजबूत वैश्विक रुख से शेयर बाजार में लौटी रौनक

मुंबई। अमेरिका-चीन व्यापार युद्ध में नरमी के संकेत से वैश्विक बाजारों में तेजी और मुद्रास्फीति बढ़ने से नीतिगत दर में कटौती की उम्मीदों से सेंसेक्स और निफ्टी में शुक्रवार को तेजी का रुख रहा। कारोबारियों ने कहा कि रुपये में मजबूती और विदेशी पूंजी प्रवाह बढ़ने से भी बाजार का उत्साह बढ़ा हुआ था। बंबई शेयर बाजार का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 413 अंक के उतार-चढ़ाव के बाद 280.71 अंक यानी 0.76 प्रतिशत बढ़कर 37.384.99 अंक पर और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) का निफ्टी 93.10 अंक यानी 0.85 प्रतिशत की बढ़त के साथ 11,075.90 अंक पर बंद हुआ। सप्ताह के दौरान , सेंसेक्स कुल मिला कर 403.22 अंक यानी 1.09 प्रतिशत और निफ्टी 129.70 अंक यानी 1.18 प्रतिशत सुधार में रहा। बृहस्पतिवार को बाजार बंद होने के बाद जारी आर्थिक आंकड़ों के मुताबिक, अगस्त में खुदरा मुद्रास्फीति मामूली बढ़कर 3.21 प्रतिशत हो गई जबकि जुलाई में औद्योगिक उत्पादन की वृद्धिदर सुस्त पड़कर 4.3 प्रतिशत पर रह गई। इससे भारतीय रिजर्व बैंक पर नीतिगत ब्याजदर (रेपो) में कटौती करने का दबाव एक बार फिर बढ़ गया है। 

सोना और चांदी मजबत

नई दिल्ली। सोने की कीमतों में शुक्रवार को सुधार हुआ और दिल्ली सर्राफा बाजार में सोने का भाव 70 रुपये की बढ़त के साथ 38,695 रुपये प्रति दस ग्राम पर पहुंच गया। चांदी का भाव 172 रुपये की बढ़त के साथ 48,400 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गया। बृहस्पतिवार को चादी 48,228 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई थी। दिल्ली सराफा बाजार में सोना 70 रुपये की बढ़त के साथ 38,695 रुपये प्रति दस ग्राम पर पहुंच या।बृहस्पतिवार को सोना 38,625 रुपये प्रति दस ग्राम पर बंद हुआ था। वैश्विक बाजारों में न्यूयॉर्क में सोना लाभ के साथ 1,505 डॉलर प्रति औंस और चांदी बढ़त के साथ 18.17 डॉलर प्रति औंस पर कारोबार कर रही थी।