ALL देश- विदेश राज्य व शहर शिक्षा व्यापार खेल धर्म मनोरंजन स्वास्थ्य फिल्मिदुनियाँ
बदल रहे मोदी
November 26, 2019 • जगदीश सिकरवार • देश- विदेश

देश को बदल रहे मोदी

भी अभी पूरे देश ने अत्यन्त उत्साह से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का 69वां जन्मदिन मनाया गया। एक बात तो सब ने मानी कि साधारण घर में जन्में नरेन्द्र मोदी ने अपनी प्रतिभा और परिश्रम से भारत को संसार के अग्रगण्य देशों की पंक्ति में ला दिया है। रूस और अमेरिका दोनों के साथ नरेन्द्र मोदी के संबंध अत्यन्त ही मधुर रहे हैं। नरेन्द्र मोदी ने अत्यन्त दृढ़ता से अमेरिका के राष्ट्रपति ट्रंप को कह दिया कि जम्मू कश्मीर भारत का आंतरिक मामला है और भारत इसमें किसी तीसरे पक्ष को कष्ट नहीं देना चाहता है। यह एक अत्यन्त ही सभ्य तरीके से अमेरिका को चेतावनी दी गई कि वे इस मामले में दखल देने का प्रयास न करे। परन्तु अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपनी आदतों से बाज नहीं आ रहे हैं और बार-बार बिना मतलब बयान दे बैठते हैं कि वे कश्मीर के मामले में भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता करना चाहते हैं। बार-बार समझाने के बाद भी वे अपने हठ पर अड़े ही रहते हैं। यह उनकी आदत में शुमार है। अभी हाल में जब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान अमेरिका गए थे तब वहां उन्हें घोर निराशा हुईइमरान खान को उम्मीद थी कि अमेरिका पाकिस्तान का पक्ष लेगा। परन्तु अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने उन्हें दो टूक कह दिया कि यह आपका और भारत का निजी मामला है इसमें अमेरिका कोई हस्तक्षेप नहीं करेगा। __ अभी खबर आई है कि भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 21 से 27 सितम्बर तक अमेरिका की यात्रा करेंगे। इस दौरान वे संयुक्त राष्ट्र महासंघ के अधिवेशन को भी संबोधित करेंगे। पूरे हिन्दुस्तानियों की नजर इस संबोधन पर रहेगी। क्योंकि भारत के प्रधनमंत्री नरेन्द्र मोदी के भाषण के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान भी भाषण देंगे। पाकिस्तान लगातार कश्मीर मुद्दे का अंतरराष्ट्रीयकरण करने की कोशिश कर रहा है। परन्तु इसमें कोई शक नहीं कि नरेन्द्र मोदी के तर्कों के सामने इमरान खान की एक नहीं चलेगी। आगामी 22 सितम्बर को अमेरिका के बशटन शहर में भारवंशियों की एक बहुत बड़ी सभा होने वाली है। ऐसी उम्मीद है कि इस सभा में प्रायः 50 हजार भारतीय मूल के नागरिक जो वर्षों से अमेरिका में रह रहे हैं, वे भाग लेंगे और पूरे जोर-शोर के साथ  भारत का पक्ष रखेंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा है कि वे भी इस सम्मेलन में प्रमुख रूप से भाग लेंगे। भारत के लिए यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि है। आज की तारीख में भारतीय मूल के लाखों लोग अमेरिका में रह रहे हैं जिन्होंने अपनी प्रतिभा और मेहनत से अमेरिका की समृद्धि में हाथ बंटाया है। भारतीय मूल के लोगों की इतनी बड़ी संख्या को देखकर ट्रंप यह भी सही ढंग से समझ लेंगे कि कश्मीर के मामले में उनका प्रलाप अर्थहीन है।  बात जब कश्मीर की आती है तो हाल में भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एक संवाददाता सम्मेलन में यह घोषणा की कि पीओके सही अर्थ में भारत का हिस्सा है और वह दिन दूर नहीं है जब भोगोलिक रूप से भी वह भारत का अंग बन जाएगा। जयशंकर अपने मंत्रालय में उनके 100 दिन पूरे होने के उपलक्ष में संवाददाता सम्मेलन को संबोधित कर कर रहे थे। जयशंकर के इस ऐलान के बाद पाकिस्तान अच्छी तरह समझ गया है कि आज न कल भारत पीओके को हथिया लेगा। क्योंकि भारत के दृष्टिकोण से यह उसका अंग है। अपने जन्मदिन के अवसर पर गंजरात में नर्मदा नदी के तट पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जो समारोह  आयोजित किया वह अद्भत था। उन्होंने कहा कि धारा 370 हटाने के पीछे सरदार पटेल की प्रेरणा थी। जब से नरेन्द्र मोदी देश के प्रधानमंत्री बने हैं तभी से वे कहते रहे हैं कि सरदार पटेल के साथ अन्याय हुआ और अपनी भावनाओं को मूर्त देने के लिए उन्होंने नर्मदा के तट पर सरदार पटेल की एक विशाल प्रतीमा बनवाई जिसे पूरा देश हमेशा याद रखेगा। अपने जन्म दिन के अवसर पर पहले की तरह ही नरेन्द्र मोदी ने गुजरात जाकर अपनी मां से आशीर्वाद लिया। यह एक  तरह से भारतीय परम्परा को सार्वजनिक रूप से दिखाना था जहां मां का स्थान सर्वोपरि होता है। अपनी प्रथम पारी से नरेन्द्र मोदी ने एक के बाद एक अनेक सफलताएं प्राप्त की। अब दूसरी पारी में वो उन सफलता से आगे बढ़कर विश्व स्तर पर भारत का मान बढ़ा रहे हैं। जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाने के बाद दुनियाभर के देशों से मिला समर्थन इस बात का प्रमाण है कि नरेंद्र मोदी के प्रयासों से विश्वभर में भारत की साख बढ़ी है। पूरे देश को यह विश्वास है कि पहले की तरह ही नरेन्द्र मोदी अनेक सफलता प्राप्त करते हुए भारत को संसार के अग्रगण्य देशों की श्रेणी में अवश्य ले जाएंगे। आज की तारीख में पूरा देश उनके दीर्घाय होने की ईश्वर से कामना करता है।