ALL देश- विदेश राज्य व शहर शिक्षा व्यापार खेल धर्म मनोरंजन स्वास्थ्य फिल्मिदुनियाँ
आराधना के लिए सज गए मंदिर
November 29, 2019 • जगदीश सिकरवार • धर्म

एनसीआर में नवरात्र की धूम, आराधना के लिए सज गए मंदिर

एनसीआर में गुरुग्राम/फरीदाबाद/गाजियाबाद/नोएडा। जय माता दी के जयकारे के लिए पूरा एनसीआर तैयार हो गया। शनिवार को मंदिरों को पूरी तरह सजा दिया गया। बाजार में श्रद्धालुओं को भीड़ थी। कलश स्थापना और पूजन सामग्री की दुकानों में लोग उमड़ रहे थे। बाजार के अलावा सड़कों के किनारे भी माता की चुन्नी, मिट्टी के दिए, हवन सामग्री, पूजन सामग्री, फलाहार से जुड़ी चीजों की दुकानें सजी थी। गुरुग्राम का रेलवे रोड स्थित चितपूर्णी मंदिर के पास का फूल बाजार गैंदे के ताजे फूलों से सुशोभित हो रहा था। इस बाजार में आम के पल्लव से लेकर फूल मालाएं और पूजन सामग्री लेने वालों की बड़ी तादाद जमा थी। सदर बाजार में शनिवार को काफी भीड़ रही। गुरुग्राम। मां दुर्गा के प्रथम स्वरुप को शैलपुत्री के नाम से जाना जाता है। प्रथम नवरात्रे पर आज जहां उपासक मां दुर्गा के प्रथम स्वरुप मां शैलपुत्री की पूरे विधि विधान के अनुसार उपासना करेंगे, वहीं मां दुर्गा के व्रत भी रखेंगे। धार्मिक ग्रंथों में उल्लेख है कि जो उपासक भगवती दुर्गा की शरण में आ जाते हैं, उनका कभी कोई अमंगल नहीं होता। मां दुर्गा की शक्तियां विषम परिस्थितियों में भी अपने उपासकों की रक्षा करती है। शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्मी मां दुर्गा के प्रथम रुप का नाम शैलपुत्री है। मां शैलपुत्री पार्वती और हेमवती नामों से भी जानी जाती हैं। मां का वाहन वृषभ है और इनके दाएं हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का फूल है। मां भगवती की विशेष कृपा प्राप्ति हेतु षोडशोपचार पजन के बाद नियमानुसार उपासकों को गाय का घृत मां को अर्पित करना चाहिए और फिर वह घृत ब्राह्मण को दे देना चाहिए। सदर बाजार स्थित फल बाजार में काफी मात्रा में सेब, केला और दूसरे फल भी आए हैं। यहां फलाहार से जुड़ी कई चीजों की दुकानें खुल गई हैं। केवल पूजा सामग्री ही नहीं ऑटो मोबाइल शो रूम, कार शो रूम और कपड़ों की दुकानों को भी सजा दिया गया है। यह उम्मीद की जा रही है की नवरात्र शुरू होते ही इस बाजार में तेजी आएगी। शनिवार को शहर की सड़कों पर काफी संख्या में लोग नजर आए। सदर बाजार के पास जाम की स्थिति बनी रही। बाजार के बाहर की भी मां दुर्गा की मूर्ति, फोटो और पूजन सामग्री की रेहड़यां लगी थी। सेक्टर मार्केट और शहर के तमाम मॉल में भी यही स्थिति रही। विभिन्न मॉल के रिटेल आउटलेट में पूजन सामग्री के लिए अलग व्यवस्था दिखी।