दिल्ली सरकार के बेकाबू अधिकारी
April 6, 2019 • जगदीश सिकरवार

दैनिक समाचार, दिल्ली - दिल्ली सरकार की घटिया राजनीती के चलते हुए हजारों युवा बेरोजगार हो गए बात हम प्रधान मंत्री कौशल विकास योजना की कर रहे हैं I आज आपको दिल्ली के एक विभाग डी.टी.टी.इ / डी.एस.एम.एस जिसके मंत्री माननीय मनीष सिसोदिया हैं, इस विभाग में  एक दवंग अधिकारी श्री मति डॉ.सुमन धवन को श्री मनीष सिशोदिया का संरक्षण मिला हुआ है और आपको समझना ये है की मोदी जी की योजना को सुचारू रूप से न चलने देने के पीछे और कोई नहीं दिल्ली के मुख्य मंत्री एवं उपमुख्य मंत्री हैं मोदी सरकार से लगभग पंद्रह करोड़ की ग्रांट लेने के बाद भी कसम खाई हुयी कि मोदी की योजना को सुचारू रूप से नहीं चलने देंगें I

अब तक इस विभाग में जितने भी डायरेक्टर एवं अन्य अधिकारी आये उन्हें पंद्रह दिन एवं एक महीने की  ट्रेनिंग देकर यानी जब तक वो स्किल इंडिया (मोदी जी की योजना) को समझ पाते उससे पहले ही उनका ट्रान्सफर कर दिया गया  I इस पूरी घटनाक्रम में इसी विभाग की अधिकारी (डॉ.सुमन धवन - डिप्टी डायरेक्टर) मनीष सिसौदिया के संरक्षण में हुआ I विदेशों में सिसौदिया जी तकनीकी शिक्षा की ट्रेनिंग अपने अधिकारियों को दिलवा रहे हैं लेकिन उसका अधिकारी सदुपयोग की जगह दुरुपयोग कर रहे हैं I  

अधिकारी साहिबा से जब हमारे संबाददाता ने बात की तो उनका जवाब वेवाक था धरना देकर ट्रेनिंग सेंटर्स ने क्या कर लिया, साथ ही साथ एल.जी को कंप्लेंट करके मेरा क्या कर लिया, मुख्य मंत्री एवं उपमुख्य मंत्री से कंप्लेंट करके मेरा क्या कर लिया, जो करना है करो यहाँ मेरा कोई कुछ नहीं कर सकता I केजरीवाल जी आपको इन अधिकारी महोदया की जांच करवानी चाहिए, आखिर हजारों युवाओं के भविष्य की बात है I     

स्किल इंडिया का ट्रेनिंग सेंटर बनाना मजाक नहीं है लगभग बीस से पच्चीस लाख रुपये का खर्चा करने के बाद भी लगभग डेढ़ वर्ष में भी सेंटर्स नहीं चल पा रहे हैं कारण मात्र दिल्ली सरकार एवं केंद्र सरकार की आपसी लडाई लेकिन अधिकारी भी यहाँ नेताओं के इशारे पर ही चलते हैं, सेकड़ों शिकायतें केजरीवाल एवं मनीष सिशौदिया को दी गयीं है तत्पश्चात भी डॉ.सुमन धवन का ट्रान्सफर तक नहीं हुआ I केजरीवाल एवं मनीष सिसौदिया के बच्चे तो वी.आई.पी स्कूलों में पढ़ते हैं लेकिन आपसी मतभेद के चक्कर में केजरीवाल सरकार ने हजारों युवाओं के साथ अन्याय किया है इसका जवाब दिल्ली की जनता २०२० में आपको जरुर देगी I

पूर्ण राज्य का दर्जा अगर आपको दे भी दिया तो आप सिर्फ उसका दुरुपयोग ही करोगे I जिस मीडिया के कन्धों पर आपने यहाँ तक का सफ़र तय किया है आपने मीडिया को ही अपाहिज बनाने की कोशिश की है, आपके साथ साथ दिल्ली सरकार की अधिकारी डॉ.सुमन धवन भी कहती हैं हमारा कोई कुछ भी नहीं कर सकता I केजरीवाल जी आपको बताना होगा अभी तक आपने कोई एक्शन महोदया पर क्यूँ नहीं लिया, क्या दिल्ली की जनता को अधिकारीयों से बेघर करवाते रहोगे I

मनीष सिसौदिया जी की लोग तारीफ भी करते हैं कि स्वास्थ्य एवं शिक्षा को दिल्ली में मजबूत किया है लेकिन यहाँ “स्किल इंडिया”

भी तकनीकी शिक्षा है अगर दिल्ली के युवा इस ट्रेनिंग को करने के बाद रोजगार की संभानाएं उत्पन्न होती हैं I योजना का राजनीतिक लाभ मोदी जी के साथ साथ आपको भी जरुर होता अभी बक्त है अपनी इस अधिकारी को काबू में करके आप दिल्ली के हजारों युवाओं को “स्किल इंडिया” से जोड़ें, लगभग दो सौ ट्रेनिंग सेंटर्स है आपके पास यहाँ से हजारों युवाओं के उज्जवल भविष्य किये जा सकते हैं, दिल्ली को और मजबूत किया जा सकता है I

आम आदमी की बातें करते करते आप सत्ता का राज भोग रहे हो I

दिल्ली सरकार की घटिया राजनीती के चलते हुए हजारों युवा बेरोजगार हो गए बात हम प्रधान मंत्री कौशल विकास योजना की कर रहे हैं I आज आपको दिल्ली के एक विभाग डी.टी.टी.इ / डी.एस.एम.एस जिसके मंत्री माननीय मनीष सिसोदिया हैं, इस विभाग में  एक दवंग अधिकारी श्री मति डॉ.सुमन धवन को श्री मनीष सिशोदिया का संरक्षण मिला हुआ है और आपको समझना ये है की मोदी जी की योजना को सुचारू रूप से न चलने देने के पीछे और कोई नहीं दिल्ली के मुख्य मंत्री एवं उपमुख्य मंत्री हैं मोदी सरकार से लगभग पंद्रह करोड़ की ग्रांट लेने के बाद भी कसम खाई हुयी कि मोदी की योजना को सुचारू रूप से नहीं चलने देंगें I

अब तक इस विभाग में जितने भी डायरेक्टर एवं अन्य अधिकारी आये उन्हें पंद्रह दिन एवं एक महीने की  ट्रेनिंग देकर यानी जब तक वो स्किल इंडिया (मोदी जी की योजना) को समझ पाते उससे पहले ही उनका ट्रान्सफर कर दिया गया  I इस पूरी घटनाक्रम में इसी विभाग की अधिकारी (डॉ.सुमन धवन - डिप्टी डायरेक्टर) मनीष सिसौदिया के संरक्षण में हुआ I विदेशों में सिसौदिया जी तकनीकी शिक्षा की ट्रेनिंग अपने अधिकारियों को दिलवा रहे हैं लेकिन उसका अधिकारी सदुपयोग की जगह दुरुपयोग कर रहे हैं I  

अधिकारी साहिबा से जब हमारे संबाददाता ने बात की तो उनका जवाब वेवाक था धरना देकर ट्रेनिंग सेंटर्स ने क्या कर लिया, साथ ही साथ एल.जी को कंप्लेंट करके मेरा क्या कर लिया, मुख्य मंत्री एवं उपमुख्य मंत्री से कंप्लेंट करके मेरा क्या कर लिया, जो करना है करो यहाँ मेरा कोई कुछ नहीं कर सकता I केजरीवाल जी आपको इन अधिकारी महोदया की जांच करवानी चाहिए, आखिर हजारों युवाओं के भविष्य की बात है I     

स्किल इंडिया का ट्रेनिंग सेंटर बनाना मजाक नहीं है लगभग बीस से पच्चीस लाख रुपये का खर्चा करने के बाद भी लगभग डेढ़ वर्ष में भी सेंटर्स नहीं चल पा रहे हैं कारण मात्र दिल्ली सरकार एवं केंद्र सरकार की आपसी लडाई लेकिन अधिकारी भी यहाँ नेताओं के इशारे पर ही चलते हैं, सेकड़ों शिकायतें केजरीवाल एवं मनीष सिशौदिया को दी गयीं है तत्पश्चात भी डॉ.सुमन धवन का ट्रान्सफर तक नहीं हुआ I केजरीवाल एवं मनीष सिसौदिया के बच्चे तो वी.आई.पी स्कूलों में पढ़ते हैं लेकिन आपसी मतभेद के चक्कर में केजरीवाल सरकार ने हजारों युवाओं के साथ अन्याय किया है इसका जवाब दिल्ली की जनता २०२० में आपको जरुर देगी I

पूर्ण राज्य का दर्जा अगर आपको दे भी दिया तो आप सिर्फ उसका दुरुपयोग ही करोगे I जिस मीडिया के कन्धों पर आपने यहाँ तक का सफ़र तय किया है आपने मीडिया को ही अपाहिज बनाने की कोशिश की है, आपके साथ साथ दिल्ली सरकार की अधिकारी डॉ.सुमन धवन भी कहती हैं हमारा कोई कुछ भी नहीं कर सकता I केजरीवाल जी आपको बताना होगा अभी तक आपने कोई एक्शन महोदया पर क्यूँ नहीं लिया, क्या दिल्ली की जनता को अधिकारीयों से बेघर करवाते रहोगे I

मनीष सिसौदिया जी की लोग तारीफ भी करते हैं कि स्वास्थ्य एवं शिक्षा को दिल्ली में मजबूत किया है लेकिन यहाँ “स्किल इंडिया” भी तकनीकी शिक्षा है अगर दिल्ली के युवा इस ट्रेनिंग को करने के बाद रोजगार की संभानाएं उत्पन्न होती हैं I योजना का राजनीतिक लाभ मोदी जी के साथ साथ आपको भी जरुर होता अभी बक्त है अपनी इस अधिकारी को काबू में करके आप दिल्ली के हजारों युवाओं को “स्किल इंडिया” से जोड़ें, लगभग दो सौ ट्रेनिंग सेंटर्स है आपके पास यहाँ से हजारों युवाओं के उज्जवल भविष्य किये जा सकते हैं, दिल्ली को और मजबूत किया जा सकता है I

आम आदमी की बातें करते करते आप सत्ता का राज भोग रहे हो I दिल्ली के युवाओं को शिक्षित कर रोजगार से जोड़ें